अध्याय 2 उपभोक्ता का व्यवहार एवं सिद्धांत

अर्थशास्त्र

अध्याय 2 उपभोक्ता का व्यवहार एवं सिद्धांत

1 बजट सेट किसे कहते हैं
बजट सेट दो वस्तुओं के उन सभी संयोगों का समूह है जिन्हें उपभोक्ता उनकी दी हुई कीमत पर अपनी सीमित आय से खरीद सकता है
2 बजट रेखा से क्या अभिप्राय है
इसे आय कीमत रेखा भी कहा जाता है यह दो वस्तुओं के उन सभी संयोगों को एक ही वक्त पर दिखाती है जिन्हें उपभोक्ता अपने सीमित आय से खरीद सकता है
3अधिमान और अंनघिमान से क्या आशय है
अघिमान अनघिमान से आशय श्रेणीकरण से है उपभोक्ता अपनी रुचि के अनुसार अपने लिए उपलब्ध बंडलो को श्रेणी प्रदान कर देता है इसे अधिमान कहते हैं क्योंकि इसमें एक बंडल को अन्य बडलों की अपेक्षा अधिक मान दिया जाता है जबकि जब उपभोक्ता अपने लिए उपलब्ध सभी बडलों के प्रति तटसत रहता है इससे उपभोक्ता का अभिमान आंधी मान कहा जाता है
4 एकदिष्ट अधिमान किसे कहते हैं
जब उपभोक्ता द्वारा 2 बडलों में से उस बंडल को प्राथमिकता दी जाती है जिसमें तुलनात्मक रूप से एक वस्तु की एक इकाई अधिक होती है इस प्रकार से अधिमान को एकदिष्ट अधिमान कहा जाता है
5हासमान विस्थापन दर से क्या अभिप्राय है
उपभोक्ता के लिए जैसे जैसे वस्तु की मात्रा में वृद्धि होती है वैसे ही वस्तु तथा वस्तु के बीज प्रतिस्थापन की डर गिरती जाती है इसे हासमान विस्थापन की दर कहते हैं
6बजट सेट में परिवर्तन कब होता है
यदि कीमतों या उपभोक्ता की आय दोनों में से किसी एक में परिवर्तन होता है तो बजट सेट में परिवर्तन आ जाता है
7 बजट रेखा की प्रवणता क्या है
बजट रेखा की प्रवणता पूरी तरह बजट रेखा पर वस्तु एक के प्रति इकाई परिवर्तन की स्थिति में वस्तु में हुए परिवर्तन की मात्रा का मापन करती है
बजट रेखा की प्रवणता का माप p1 /pe
अतः बजट रेखा की प्रवणता ऋणत्मक नीचे की ओर गिरती हुई होती है
8 प्रतीस्थापन की दर से क्या आशय है
प्रतिस्थापन की दर वस्तु की वह मात्रा है जिसमें उपभोक्ता वस्तु एक और एक अतिरिक्त इकाई पाने के लिए छोड़ देने को तैयार होता है इसे के निर्देश मूल्य द्वारा दर्शाया जाता है
10अनधीमान वक्र की प्रवणता से क्या तात्पर्य है
अनधिमान वक्र की प्रवणता नीचे की ओर होती है अथवा अनधिमान वक्र का ढाल ऋण आत्मक होता है यदि अनुमान एक दिषट है तो अनधिमान वक की दिशा में वस्तु की मात्रा में वृद्धि और वस्तु दो की मात्रा में कमी के साथ संबंध रखती है
11अनधिमान वक्र की विशेषताएं बताइए
अनधिमान वक्र का ढाल ऋण आत्मक होता है
अनधिमान वर्क एक दूसरे को नहीं काटते हैं
अनधिमान वक्र मानचित्र में ऊंचा अंधी मांग वक्र संतुष्टि के ऊंचे स्तर को प्रकट करता है
अनधिमान वक्र मूल बिंदु की और उन्नतोदर होते हैं
अनधिमान वक्र का एक दूसरे के समानांतर होना आवश्यक नहीं है
जब दो वस्तु का उपयोग किया जाता है तो अनधिमान X अक्ष ो काटते हैं और ना ही y अक्षको काटते हैं
अनधिमान वक्र का ढलान सीमांत प्रतिस्थापन की दर को व्यक्त करते हैं
12अनधिमान मानचित्र से क्या अभिप्राय है
इस से अभिप्राय अनधिमान वक्र को एक समूह से.है जो एक ही चित्र में बने होते हैं जो वर्क दाई और एवं सबसे ऊपर है वह आय के उच्च स्तर को के अनुरूप है और इस प्रकार वह संतुष्टि के उच्च स्तर को दर्शाता है
13उपयोगिता किसे कहते हैं
आवश्यकता को पूरा करने की क्षमता को ही उपयोगिता कहते हैं अर्थात किसी वस्तु की वह क्षमता जिसमें किसी मानवीय आवश्यकता की संतुष्टि पूरी होती है उसे उस वस्तु की उपयोगिता कहते हैं
14उपयोगिता फलन किसे कहते हैं अधिमानो की उपयोगिता अंकों के रुप में प्रस्तुत करने को उपयोगिता फलन कहते हैं
15सीमांत उपयोगिता किसे कहते हैं
वस्तु की एक अतिरिक्त इकाई के उपयोग से प्राप्त उपयोगिता सीमांत उपयोगिता कहलाती है
16 उपभोक्ता का इस्टतम चयन कहां होता है
उपभोक्ता का इस्टतम बंडल ऐसे बिंदु पर स्थित होता है जहां बजट रेखा किसी एक अनधिमान वक्र को स्पर्श करती हैं अर्थात जहां विस्थापन कि सीमात दर तथा किमतों के अनुपात में समानता होती है
17मांग किसे कहते हैं
वस्तु की मात्रा जिसका उपभोक्ता चयन करता है मांग कहलाती है अन्य शब्दों में एक उपभोक्ता अपनी आय से वस्तु की कितनी मात्रा खरीदने को तैयार होता है मांग कहलाती है
18मागं फलन किसे कहते हैं
मांग फलन 1 वस्तु की मांगी गई मात्रा और इसे प्रभावित करने वाले कारकों के मध्य संबंध को प्रदर्शित करता है
19 मांग वृक् किसे कहते हैं
विभिन्न कीमतो पर वस्तु की मांगी गई मात्रा को प्रदर्शित करने वाला लिखा चित्र ही मांग वक्र कहलाता.है अर्थात जब माग मात्रा तथा कीमत के संबंध को ग्राफ द्वारा दर्शाया जाता है तो वह मांग वक्र कहलाता है
20मांग के निर्धारित तत्व लिखिए
वस्तु की कीमत
सम्बधित वस्तु की कीमत
उपभोक्ता की रूचि
जनसंख्या का आकार
आय का वितरण मांग को प्रभावित करने वाले तत्व है
21मांग. का नियम किसे कहते हैं
मांग के नियम से तात्पर्य हे कि अन्य बातें समान रहने पर वस्तु की कीमत मे वृद्धि होने पर उसकी मांग मे कमी आती है और कीमत मैं कमी होने पर मांग मे कमी होने पर मांग मे वृद्धि होती हैं
22मांग के नियम कि मान्यताएं लिखिए
उपभोक्ता की आय में परिवर्तन नहीं होना चाहिये
जनसख्या मे परिवर्तन नहीं होना चाहिये
उपभोक्ता की रुचि अधिमानो तथा प्राथमिकता में कोई परिवर्तन नहीं होना चाहिये
सम्बंधित वस्तु की कीमत में कोई बदलाव नहीं होना चाहिये
23सामान्य वस्तुएं तथा निम्नस्तरीय वस्तुएं का अर्थ बताइए
सामान्य वस्तुएं उन वस्तुओ को कहते है जिनकी मांग के्ताओ की आय के बढऩे पर बढ़ती अत आय और मांग मे धनात्मक सम्बध पाया जाता है तथा सामान्य वस्तुऔ के लिए कीमत प्रभाव ऋण आत्मक होता है उदाहरण देशी घी गेहूं निम्नस्तरीय वस्तुएं उन वस्तुओं को निम्नस्तरीय वस्तुएं कहते हैं जिनकी मांग क्रेताओं कि आय बढ़ने पर बढती है अतः आय और मांग में ऋण आत्मक संबंध पाया जाता है जैसे खाद्य पदार्थ मोटे अनाज
24 स्थानापन्न और पूरक वस्तु का अर्थ बताइए
स्थानापन्न वस्तु उन्हें कहते हैं जो एक दूसरे के स्थान पर काम में ली जाती है अर्थात एक के स्थान पर दूसरी वस्तुओं का उपयोग किया जा सकता है जैसे चाय-कॉफी शक्कर
पूरक वस्तुएं ऐसी वस्तुएं जिनका प्रयोग साथ साथ किया जाता है अर्थात किसी एक का प्रयोग अलग करके नहीं किया जा सकता पूरक वस्तुएं कहते हैं जैसे कार पेट्रोल पेन इंक पूरक वस्तु के मूल्य तथा मांगी गई मात्रा के बीच विपरीत संबंध होता है
25 बाजार मांग किसे कहते है
किसी वस्तु के लिए एक विशेष कीमत पर बाजार मांग सभी उपभोक्ताओं की सम्मिलित मांग का + होती है अर्थात किसी भी वस्तु के लिए बाजार मांग व्यक्ति विशेष की मांग वक्र उसे प्राप्त की जा सकती है
26 बाजार मांग वक्र किसे कहते हैं
अलग-अलग व्यक्तियों के समय इस तरह मांग वक्र ओ को जोड़ना या एक साथ संकलन करके दिखाया गया वही बाजार मांग वक्र कहलाता है
27 मांग वक्र की आकृति आयताकार अतिपरवलय की तरह कब होती है
यदि मांग की लोच इकाई के बराबर होती है मांग वक्र की आकृति आयताकार इज अतिपरवलय जैसी होती है
28मांग की लोच से क्या तात्पर्य है
मांग की कीमत लोच से तात्पर्य वस्तु की कीमत में प्रतिशत परिवर्तन के कारण मांगी गई मात्रा में प्रतिशत परिवर्तन का अनुपात ही मांग की लोच अर्थात मांग की लोच सदैव कीमत में प्रतिशत परिवर्तन तथा मांग मात्रा में प्रतिशत परिवर्तन को मापती है
30 मांग की कीमत लोच तथा कुल व्यय के मध्य संबंध को बताइए
इस संबंध को 3 स्थितियों से बताया जा सकता है
जब वस्तु की कीमत में कमी या वृद्धि होने पर उस पर किए जाने वाले वह पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है तो वस्तु की मांग की लोच इकाई के बराबर होती है
जब किसी वस्तु की कीमत कम होने से बढ़ जाता है तथा कीमत बढ़ने से कम हो जाता है तो मांग की लोच इकाई से अधिक होती होगी
जब किसी वस्तु की कीमत कम होने से वह भी कम हो जाता कीमत बढ़ने से वह भी बढ़ जाती है अर्थात बेलोचदार
32 मांग की कीमत लोच को प्रभावित करने वाले कारक बताइए
वस्तु की प्रकृति आय का स्तर समय अवधि कीमत स्तर उपभोक्ता की आदत रुचि फैशन अधिकार मांग की कीमत लोच को प्रभावित करते हैं
33मांग तथा मांगी गई मात्रा के बीच क्या अंतर है
मांग से अभिप्राय एक वस्तु की विभिन्न संभव कीमतों पर खरीदी जाने वाली विभिन्न संभव मात्राओं से हैं जबकि इसके विपरीत मांगी गई मात्रा से अभिप्राय उस विशेष मात्रा से हैं जो वस्तु की विशेष कीमत पर खरीदी जाती है
34 मांग अनुसूची किसे कहते हैं
मांग अनुसूची वह तालिका है जो किसी वस्तु के विभिन्न किमतो तथा उस वस्तु की विभिन्न खरीदी गई मात्राओं के संबंध को प्रकट करती है
इसके दो प्रकार है
व्यक्तिगत मांग अनुसूची
बाजार मांग अनुसूची