मांग की कीमत लोच की ज्यामिति विधि

मांग की कीमत लोच की ज्यामिति विधि

अर्थशास्त्र

मांग की कीमत लोच की ज्यामिति विधिमांग की कीमत लोच की ज्यामिति विधि

मांग की कीमत लोच की ज्यामितीय विधि मांग वक्र के किसी बिंदु पर मांग की लोच ज्ञात करने की विधि है इसके द्वारा मांग वक्र के किसी बिंदु पर मांग की लोच ज्ञात की जाती है इस विधि के अंतर्गत किसी बिंदु पर मांग की लोच ज्ञात करने के लिए बिंदु के निचले हिस्से में ऊपरी हिस्से का भाग दिया जाता है प्राप्त भागफल मांग की कीमत लोच को दर्शाता है

ज्यामिति विधि का प्रयोग मांग वक्र के किसी बिंदु पर मांग की कीमत लोच की गणना में किया जाता है किसी बिंदु पर लोच का माप- मांग वक्र के निचले हिस्से तथा ऊपर हिस्से का अनुपात होता है। सरल शब्दों में मांग वक्र के किसी बिंदु पर मांग की लोच ज्ञात करने के लिए बिंदु के निचले हिस्से में बिंदु के ऊपर हिस्से का भाग दिया जाता है प्राप्त भागफल मांग की कीमत लोच को दर्शाता है। इसमें निम्नलिखित स्थितियां हो सकती हैं –              

1 यदि निचला हिस्सा और ऊपरी हिस्सा बराबर है, ऐसी स्थिति में कीमत लोच इकाई के बराबर होती है।                           

2 यदि निचला हिस्सा ऊपरी हिस्से से बड़ा है, तो उस बिंदु पर कीमत लोच एक से अधिक होती है।                                     

3 यदि निचला हिस्सा ऊपरी हिस्से से छोटा है, तो इस स्थिति में कीमत लोच इकाई से कम होती है।                                  

4 यदि बिंदु वक्र के सबसे ऊपरी भाग पर हैं तो मांग की लोच अनंत होगी।                                                                            

5 यदि बिंदु वक्र के सबसे निचे के भाग पर हैं तो मांग की लोच 0 होगी।

 



मांग की कीमत लोच

maang kee keemat loch kee jyaamiti vidhi

maang kee keemat loch kee jyaamiteey vidhi maang vakr ke kisee bindu par maang kee loch gyaat karane kee vidhi hai isake dvaara maang vakr ke kisee bindu par maang kee loch gyaat kee jaatee hai is vidhi ke antargat kisee bindu par maang kee loch gyaat karane ke lie bindu ke nichale hisse mein ooparee hisse ka bhaag diya jaata hai praapt bhaagaphal maang kee keemat loch ko darshaata hai jyaamiti vidhi ka prayog maang vakr ke kisee bindu par maang kee keemat loch kee ganana mein kiya jaata hai kisee bindu par loch ka maap- maang vakr ke nichale hisse tatha oopar hisse ka anupaat hota hai. saral shabdon mein maang vakr ke kisee bindu par maang kee loch gyaat karane ke lie bindu ke nichale hisse mein bindu ke oopar hisse ka bhaag diya jaata hai praapt bhaagaphal maang kee keemat loch ko darshaata hai.



isamen nimnalikhit sthitiyaan ho sakatee hain –

1 yadi nichala hissa aur ooparee hissa baraabar hai, aisee sthiti mein keemat loch ikaee ke baraabar hotee hai.

2 yadi nichala hissa ooparee hisse se bada hai, to us bindu par keemat loch ek se adhik hotee hai.

3 yadi nichala hissa ooparee hisse se chhota hai, to is sthiti mein keemat loch ikaee se kam hotee hai.

4 yadi bindu vakr ke sabase ooparee bhaag par hain to maang kee loch anant hogee.

5 yadi bindu vakr ke sabase niche ke bhaag par hain to maang kee loch 0 hogee.