सामाजिक न्याय

सामाजिक न्याय

ARTS

सामाजिक न्याय

 सामाजिक न्यायसामाजिक न्याय न्याय की जब बात की जाती है तब समानता स्थापना की बात भी की जाती है। अर्थात न्याय एक ऐसी अवधारणा है जो समानता की बात करती है। जैसे आर्थिक न्याय – आर्थिक असमानता को समाप्त कर समानता लाने का प्रयास करता है। राजनीतिक न्याय के अंतर्गत सभी को राजनीति में भाग लेने का समान अवसर को लेकर प्रयास किए जाते हैं।
सामाजिक न्याय
सामाजिक स्थिति के आधार पर व्यक्तियों में भेदभाव न हो और प्रत्येक व्यक्ति को अपने व्यक्तित्व के विकास के पूर्ण अवसर प्राप्त हो सके। राज्य से भी यही अपेक्षा की जाती है कि वह नीति निर्माण करते समय समतामूलक समाज की स्थापना में सहायक हो। समाज में किसी भी व्यक्ति के साथ लिंग, जाति, वर्ग आदि आधार पर भेद नहीं हो सभी को समान अवसर प्राप्त हो यही सामाजिक न्याय हैं।
नोट:- समाज में समानता स्थापित किए बगैर हमारा आर्थिक समानता और स्वतंत्रता जैसे विषयों पर चर्चा करना व्यर्थ है। अतः पहले सामाजिक न्याय की स्थापना की जाये फिर आर्थिक न्याय की मांग की जानी चाहिए।

Saamaajik Nyaay

nyaay kee jab baat kee jaatee hai tab samaanata sthaapana kee baat bhee kee jaatee hai. arthaat nyaay ek aisee avadhaarana hai jo samaanata kee baat karatee hai. jaise aarthik nyaay – aarthik asamaanata ko samaapt kar samaanata laane ka prayaas karata hai. raajaneetik nyaay ke antargat sabhee ko raajaneeti mein bhaag lene ka samaan avasar ko lekar prayaas kie jaate hain. saamaajik nyaay saamaajik sthiti ke aadhaar par vyaktiyon mein bhedabhaav na ho aur pratyek vyakti ko apane vyaktitv ke vikaas ke poorn avasar praapt ho sake. raajy se bhee yahee apeksha kee jaatee hai ki vah neeti nirmaan karate samay samataamoolak samaaj kee sthaapana mein sahaayak ho. samaaj mein kisee bhee vyakti ke saath ling, jaati, varg aadi aadhaar par bhed nahin ho sabhee ko samaan avasar praapt ho yahee saamaajik nyaay hain. not:- samaaj mein samaanata sthaapit kie bagair hamaara aarthik samaanata aur svatantrata jaise vishayon par charcha karana vyarth hai. atah pahale saamaajik nyaay kee sthaapana kee jaaye phir aarthik nyaay kee maang kee jaanee chaahie.

हिंदी में अधिक नोट्स