जैसलमेर प्रजामंडल

Uncategorized

जैसलमेर प्रजामंडल

जैसलमेर प्रजामंडल :–
जैसलमेर में राजनीतिक चेतना का विस्तार सबसे अंत में हुआ।
इस प्रजामंडल की स्थापना 15 दिसंबर 1945 को हुई।
इसके संस्थापक मिठालाल व्यास थे।
अन्य सदस्य — सागरमल गोपा, शिवशंकर गोपा, मदनलाल पुरोहित , लालचंद जोशी , रघुनाथ सिंह मेहता थे ।
* विशेषताएं :– ‘ सर्वहितकारिणी वाचनालय ‘ की स्थापना 1915 में हुई ।
‘जवाहर दिवस’ 14 नवंबर, 1930 को जैसलमेर में मनाया गया ।
1932 में रघुनाथ सिंह मेहता ने नेशनल माहेश्वरी युवक मंडल की स्थापना की, जो बाहर से एक शैक्षिक संस्था लेकिन आंतरिक रूप से क्रांतिकारी साहित्य का प्रचार – प्रसार कर रही थी ।
इस कारण इस मंडल को प्रतिबंधित कर ‘ रघुनाथ सिंह पर मुकदमा चलाया गया ।




जिसे सागरमल गोपा द्वारा ‘रघुनाथ सिंह पर मुकदमा’ नामक पुस्तक में प्रकाशित करवाया दिया।
1940 में सागरमल गोपा द्वारा ‘जैसलमेर में गुंडाराज’ नामक पुस्तक प्रकाशित हुई । इनकी अन्य पुस्तक ‘ आजादी के दीवाने’ थी।
जेल में थानेदार गुमान सिंह के द्वारा इन पर अमानवीय अत्याचार किए गए । तथा 1946 में ‘सागरमल गोपा’ को जेल में मिट्टी का तेल डालकर जला दिया गया ।
सागरमल गोपा हत्याकांड की जांच के लिए ‘गोपाल स्वरूप पाठक ‘ जांच आयोग का गठन किया गया।
1945 ईस्वी में मीठा लाल व्यास के द्वारा जोधपुर में जैसलमेर प्रजामंडल की स्थापना की गई।

Leave a Reply