A Boy’s Song

Uncategorized

 

 

 

A Boy's SongA Boy’s Song By Wilfred Gibson

A Boy’s Song Because “I” never sets a trap of any kind.

क्योंकि “मैं” कभी किसी प्रकार का कोई जाल नहीं बिछाता है। 

But he leaves them to fly freely.

लेकिन वह उन्हें आजादी से उड़ने के लिए छोड़ देता है।

All birds flying in the air belong to the poet “from me”.

हवा में उड़ने वाले सभी पक्षी “मुझसे” कवि से संबंधित हैं। 

A small common bird sitting in the bushes, ranging from blue tit

झाड़ियों में बैठी छोटी सी सामान्य चिड़िया ब्लू टिट से लेकर 

To eagle flying high ऊंचाइयों पर उड़ने वाले बाज तक 

Outside the cage, they flock to the “merry” poet’s delight.

पिंजरे के बाहर वह “मेरी” कवि की खुशी के लिए आते जाते हैं।

And so the “I” poet sits on the eagle’s wings and “feels flying” to heights like the sun.

और इसलिए “मैं” कवि बाज के पंखों पर बैठकर सूरज की तरह ऊंचाइयों पर “उड़ने का अनुभव करता है” उड़ता है। 

And the sound of blue tit is heard throughout the day in the heart of “my” poet.

और “मेरे” कवि के हृदय में पूरे दिन ब्लू टिट की आवाजें सुनाई देती हैं।

A Boy’s Song Text

Because I set no snare

But leave them flying free,

All the birds of the air

Belong to me.

 

From the blue-tit on the sloe

To the eagle on the height,

Uncaged they come and go

For my delight.

 

And so the sunward way

I soar on eagle’s wings,

And in my heart all day

The blue-tit sings.

Class 12 English RBSE 2019

Leave a Reply